Thursday 30 September 2010

अयोध्या मामले पर टिप्पणी

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने स्वयंसेवकों से अयोध्या मामले में फैसला आने पर संयम बरतने का निर्देश दिया है। संघ के आला सूत्रों ने बताया कि सरसंघचालक ने साफ संदेश दिया है कि फैसला चाहे राम मंदिर के हक में हो या न हो, स्वयंसेवक की प्रतिक्रिया संतुलित व शांत होनी चाहिए। गुरुवार को फैसला आने के बाद मोहन भागवत खुद मीडिया से रू-ब-रू होंगे। 

15-17 सितंबर को संघ नेतृत्व की बैठक में यह तय कर लिया गया था कि संघ, भाजपा, विहिप नेताओं में तालमेल बनाए रखने के लिए फैसले पर पहले सरसंघचालक अपना रुख साफ करेंगे। इसके बाद ही दूसरे संगठन बयान देंगे। 

दिग्विजय के बयानों से भड़की भाजपा -
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बयानों से चिढ़कर भाजपा ने बुधवार को पलटवार किया। प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि एक तरफ सरकार बार-बार शांति की अपील कर रही है तो दूसरी ओर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह अनर्गल बयान देकर तनाव पैदा कर रहे हैं।

उधर, दिग्विजय सिंह ने दोहराया कि उन्हें भाजपा, संघ और विश्व हिंदू परिषद पर कोई भरोसा नहीं है। उन्होंने कहा कि गुरुवार को हाई कोर्ट के फैसले के बाद इन संगठनों ने अपने रुख में बदलाव दिखाया तो वे अपने बयान पर पुनर्विचार करेंगे।


भाजपा ने की शांति की अपील -
भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने अयोध्या पर फैसले से एक दिन पहले साफ किया है कि पार्टी अदालत के निर्णय का हमेशा आदर करती है और देश में अमन-चैन चाहती है। उन्होंने अपील की है कि देशवासी गुरुवार को अयोध्या मसले पर फैसले को धीरज से सुनें और संयम रखें। उन्होंने उम्मीद जताई कि फैसला देश को मजबूत करेगा और इसीलिए भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी अपने प्रदेशों में शांति की अपील जारी की है। मालूम हो कि केंद्र सरकार ने भाजपा-शासित कर्नाटक, मध्य प्रदेश व गुजरात को अति संवेदनशील करार दिया है।


टिप्पणी - मैं भी सभी लोगो से शांति कि अपील करता हूँ | बिना वजह दंगा फसाद करने से कोई फायदा नहीं है | बिना वजह लोगो कि जान चली जाती है | हम सभी एक है और एक रहेंगे जय हिंद..........................................


दीपक    

Wednesday 29 September 2010

लता मंगेशकर के जन्मदिन पर....................


भारत रत्न लता मंगेशकर (जन्म 28 सितंबर1929 इंदौर), भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका हैं जिनका छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। हालांकि लता जी ने लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फ़िल्मी और गैर-फ़िल्मी गाने गाये हैं लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एकपार्श्वगायक के रूप में रही है। अपनी बहन आशा भोंसले के साथ लता जी का फ़िल्मी गायन में सबसे बड़ा योगदान रहा है।
लता की जादुई आवाज़ के भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ पूरी दुनिया में दीवाने हैं। टाईम पत्रिका ने उन्हें भारतीय पार्श्वगायन की अपरिहार्य और एकछत्र साम्राज्ञी स्वीकार किया है।

जन्मदिन कि ढेरो शुभकामनाएं 

मेरा पसंदिता गाना जो मुझे बहुत पसंद है :-

 


दीपक 

Tuesday 28 September 2010

स्किन टिप्स




साफ पानी से नहाएं - यदि आप बारिश में भीग जाये तो जल्दी से ड्रेस चेंज कर ले और साफ पानी से नहा लें हो सके तो डेटोल भी मिला सकते है | ऐसा नहीं करने से आपको कुजली हो सकती है जिससे दाद और सफ़ेद दाग होने का खतरा रहता है | बारिश में पानी अक्सर मैला होता है इसलिए जरुरी है साफ पानी से नहाया जाये |

याद रखने की बात -
१)  रेगुलर स्किन टेस्ट कराएं |
२) कोई भी नई करें लगाने से पहले कान के पीछे लगाकर डेक लें |
३) बरसात में भीगे तो ज्यादा देर तक गीले कपड़ो को पहेनकर नहीं रखें |
४) कई बार ऐसा होता है कि लोग बारिश में भीग कर भी साफ पानी से नहीं नहाते जिससे उन्हें खुजली कि शिकायत रहती है और आगे चलकर ये दाद औए सफ़ेद दाग का रूप ले सकती है |



दीपक

Monday 27 September 2010

स्किन टिप्स






बारिश में भीगे तो - जब कभी बारिश में घर से बाहर निकले तो विटा क्रीम या जो आप क्रीम रोजाना लगाते हो उसे लगा कर ही बाहर निकले या साथ में रखे जिससे स्किन पर जर्म्स का सीधा असर ना पड़े | कोई नई क्रीम यूज करने से पहले किसी जानकर से सलाह ले लें तो अच्छा होगा या फिर थोड़ी सी कान के पीछे लगा कर टेस्ट करे कही वह आपको नुकसान तो नहीं कर रही है यदि कर रही है तो उससे यूज नहीं करे और अगर नुकसान नहीं कर रही तो आप उसे यूज कर सकते है |

ऐसे करे बचाव - जब कभी बारिश में निकले तैयारी के साथ निकले तो आप इन्फेकशन और एलर्जी से बच सकते है | आप अपने उनी कपड़ों को साफ पानी से धोएं जो बरसात में अपने पहन रखा हो, क्योंकि कई बार लोग अपने कपडे को वैसा ही सुखा कर अगले दिन वैसे ही पहन लेते है जिससे इन्फेकशन और एलर्जी का खतरा बना रहता है |

दीपक

Sunday 26 September 2010

स्किन टिप्स




बारिश में भिगो लेकिन ध्यान से :- अधिकांश लोग बारिश में भीगते समय इतने मशगूल हो जाते है कि उन्हें स्किन इन्फेक्शन का जरा भी ख्याल नहीं होता | यह सही नहीं है, क्योंकि त्वचा बहुत नाजुक होती है, इसलिए केयर करना बेहद जरुरी है | जब कभी भीग भी जाये तो ज्यादा लम्बी समय तक भीगी हालत में ही ना रहें | इससे जुखाम तो होगा ही, साथ ही स्किन डिसीस भी हो सकती है | 

ये हो सकता है नुकसान :- बरसात में भीगने से कई तरह कि प्रोब्लम्स हो सकती है | इसमें खुजली की बीमारी, रिएक्शन, रेसेस, मुहांसे, और स्किन पर लाल धब्बे भी हो सकते है | 

to be continued..................................................

दीपक

Saturday 25 September 2010

हेल्थ टिप्स






आजकल अंसतुलित खाने के बढ़ते प्रचलन के चलते अधिकांश लोगों को अत्यधिक चर्बी की समस्या रहने लगी है। हेल्थ के प्रति सावधान न रहने के कारण यह समस्या धीरे-धीरे बड़ा रूप ले लेती है और मोटापा बढ़ जाता है। 
मोटापे की वजह से हमारे स्वास्थ्य को कई खतरनाक बीमारियों का खतरा सदैव बना रहता है। मोटापे को जल्द से जल्द कम करने के लिए योग क्रिया की मदद ली जा सकती है। ऐसी ही एक क्रिया है कपाल भाति, जिससे निश्चित ही मोटापे पर नियंत्रण किया जा सकता है।
क्रिया करने की विधि :-
समतल स्थान पर साफ टॉवेल या अन्य कपड़ा बिछाकर अपनी सुविधानुसार आसन में बैठ जाएं। बैठने के बाद पेट को ढीला छोड़ दें। अब तेजी से सांस बाहर निकालें और पेट को भीतर की ओर खींचें। सांस को बाहर निकालने और पेट को पिचकाने के बीच सामंजस्य रखें। प्रारंभ में दस बार यह क्रिया करें, धीरे-धीरे 60 तक बढ़ा दें। बीच-बीच में विश्राम ले सकते हैं। इस क्रिया से फेफड़े के निचले हिस्से की प्रयुक्त हवा एवं कार्बन डाइ ऑक्साइड बाहर निकल जाती है और सायनस साफ  हो जाती है साथ ही पेट पर जमी फालतू चर्बी खत्म हो जाती है।
सावधानियां :-
- श्वास संबंधी बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति इस क्रिया को ना करें।
- कपाल भाति क्रिया प्रात: काल खाली पेट ही करें।
- किसी योग विशेषज्ञ की सलाह लेकर ही करें।




दीपक 

Friday 24 September 2010

अयोध्या मंदिर व बावरी मस्जिद विवाद पर विशेष





अयोध्या विवाद का इतिहास
हिन्दुओं की मान्यता है कि राम का जन्म अयोध्या में हुआ था और उनके जन्मस्थान पर एक भव्यमन्दिर विराजमान था जिसे मुगल आक्रमणकारी बाबर ने तोड़कर वहाँ एक मसजिद बना दी।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई में इस स्थान को मुक्त करने एवं वहाँ एक नया मन्दिर बनाने के लिये एक लम्बा आन्दोलन चला। ६ दिसम्बर सन् १९९२ को यह विवादित ढ़ांचा गिरा दिया गया और वहाँ राम का एक अस्थायी मन्दिर निर्मित कर दिया गया।
राम जन्मभूमि विवाद का संक्षिप्त इतिहास इस प्रकार से है:[१]
  • १५२८ में राम जन्म भूमि पर मस्जिद बनाया गया था। हिन्दुओं के पौराणिक गर॒थ रामायण और रामचरित मानस के अनुसार यहां भगवान राम का जन्म हुआ था।
  • १८५३ में हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच इस जमीन को लेकर पहली बार विवाद हुआ।
  • १८५९ में अंग्रेजों ने विवाद को ध्यान में रखते हुए पूजा व नमाज के लिए मुसलमानों को अन्दर का हिस्सा और हिन्दुओं को बाहर का हिस्सा उपयोग में लाने को कहा।
  • १९४९ में अन्दर के हिस्से में भगवान राम की मूर्ति रखी गई। तनाव को बढ़ता देख सरकार ने इसके गेट में ताला लगा दिया।
  • सन् १९८६ में जिला न्यायाधीश ने विवादित स्थल को हिंदुओं की पूजा के लिए खोलने का आदेश दिया। मुस्लिम समुदाय ने इसके विरोध में बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी गठित की।
  • सन् १९८९ में विश्व हिन्दू परिषद ने विवादित स्थल से सटी जमीन पर राम मंदिर की मुहिम शुरू की।
  • ६ दिसम्बर १९९२ को अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराई गई। परिणामस्वरूप देशव्यापी दंगों में करीब दो हजार लोगों की जानें गईं।
  • उसके दस दिन बाद १६ दिसम्बर १९९२ को लिब्रहान आयोग गठित किया गया। आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के रिटायर्ड मुख्य न्यायाधीश एम.एस. लिब्रहान को आयोग का अध्यक्ष बनाया गया।
  • लिब्रहान आयोग को १६ मार्च १९९३ को यानि तीन महीने में रिपोर्ट देने को कहा गया था, लेकिन आयोग ने रिपोर्ट देने में १७ साल लगाए।
  • ३० जून २००९ को लिब्रहान आयोग ने चार भागों में ७०० पन्नों की रिपोर्ट प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और गृह मंत्री पी. चिदम्बरम को सौंपा।
  • जांच आयोग का कार्यकाल ४८ बार बढ़ाया गया।
  • ३१ मार्च २००९ को समाप्त हुए लिब्रहान आयोग का कार्यकाल को अंतिम बार तीन महीने यानी ३० जून तक के लिए बढ़ा गया।
  • पिछले १७ सालों में इस रिपोर्ट पर लगभग ८ करोड़ रुपए खर्च हुए हैं।
  • आयोग से जुड़े एक सीनियर वकील अनुपम गुप्ता के अनुसार ७०० पन्नों के इस रिपोर्ट में यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व भाजपा नेता कल्याण सिंह के नाम का उल्लेख ४०० पन्नों में है, जबकि लालकृष्ण आडवाणी और मुरली *मनोहर जोशी की चर्चा २०० पन्नों पर की गई है। हालांकि अध्यक्ष से मतभेद के कारण अनुपम गुप्ता इस जांच से अलग हो गए थे। इस मामले में ३९९ बार सुनवाई हुई है।

टिप्पणी - अभी फैसले की तारीख और बढ गयी है.................शायद और बढे .................................और विवाद तो कभी
             नहीं ख़त्म होगा | कई ऐसी जगह है जहाँ मंदिर और मस्जिद एक साथ बने हुए है | मेरे विचार में इसका भी यही हल 
            है कि दोनों एक साथ बना दिया जाये जिससे दोनों पक्ष खुश हो जाये हिन्दू भी और हमारे मुस्लिम भाई बहन भी | आप 
            सभी भी अपने विचार दें |

           धन्यवाद 



दीपक 

  








Thursday 23 September 2010

गणेश विसर्जन पर विशेष


भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को लौकिक परंपराओं में भगवान गणेश के विसर्जन यानि जल के देवता भगवान गणेश की मूर्तियों को जल में ही विसर्जित कर दिया जाता है।भगवान गणेश से सुख-शांति के आशीर्वाद की कामना से गणेश मूर्ति को विदा जरुर कर दिया जाता है, पर उनका सदा स्मरण व्यावहारिक जीवन के हर मुश्किल समय को सुख में बदल देता है। इसलिए भगवान विघ्रहर्ता के रुप में भी पूजे जाते हैं। जानते हैं कि किन परेशानियों और कष्टों में भगवान गणेश का जरुर ध्यान करें -


-परिवार में सुख-समृद्धि के लिए। कमाई अधिक हो, किंतु खर्चे उससे भी ज्यादा होने से धन की कमी बनी रहती हो।


-जब पुत्र या पुत्री का गलत संगति से आचरण और चरित्र बिगड़ता दिखाई दे रहा हो।


-अगर आपके पुत्र या पुत्री पढ़ाई कर रहे हों, खासतौर पर उच्च शिक्षा पा रहे हों,पर कहीं न कहीं आपको लग रहा हो कि उनकी रुचि पढ़ाई में नहीं है या फिर किसी कारण से पढ़ाई में बार-बार परेशानी आ रही हो।


-लोन यानि ऋण से छुटकारा पाने के लिए।


-आप किसी क्षेत्र में अपनी योग्यता बढ़ाकर एक्सपर्ट बनना चाहते हो। यानि कार्य कुशलता और बुद्धि कौशल बढ़ाने के लिए।


-जॉब में कड़ी मेहनत का परिणाम अच्छा नहीं मिल रहा हो।


-स्मरण शक्ति कम हो रही हो।


-बिजनेस में अधिक लाभ और व्यापार को बढ़ाना चाहते हों।


-अपने स्वभाव को मधुर बनाने के लिए। गुस्सैल स्वभाव को काबू में करने के लिए।

Wednesday 22 September 2010

अजब गजब

पेट्स का टीकाकरण - कलिफोर्निया के रैंचो शहर के डॉक्टरों ने विश्व रैबीज दिवस के दिन आगामी २५ सितम्बर को 3300 पालतू कुत्तो और बिल्लियों के वेकसिन का मिशन बनाया है | इस मिशन के दौरान कुछ डॉक्टरों और दुसरे पशु संरक्षण संस्थानों के कार्यकर्ता सुबह 9 से शाम 5 बजे तक निशुल्क वैक्सीनेशन करेंगे | इसके लिए शहर में कई सेंटर भी लगाये है | यदि सब ठीक ठाक रहा तो ये कारनामा गिनीस बुक आफ वर्ल्ड रेकॉर्ड्स में दर्ज होगा | संसथान के लोगो ने प्रचार करके इस मिशन को सफल बनाने का अनुरोध भी शुरू कर दिया है |

है ना गजब...........................................................


दीपक

Tuesday 21 September 2010

हेल्थ टिप्स

कोलेस्ट्राल से मुक्ति :- अगर सही तरीके से कोशिश की जाये तो कोलेस्ट्राल से मुक्ति मिल सकती है | अच्छा यही होगा कि मोटापा नियंत्रित करने वाली दवाइयां से दुरी रखी जाये | हड्डियों को मजबूत किया जाये उसके लिए दूध पिया जाये लेकिन उसमे मलाई नहीं होनी चाहिए | हरी पत्तेदार सब्जी खाएं | मलाई, जंक फ़ूड, तला-गला अदि खाने से बचे | रोजाना व्यायाम भी करे | इससे कोलेस्ट्राल से कुछ हद तक बचे रहेंगे | 

कुछ बातो का ध्यान रखे -
१) आये दिन सेवन में लाये जाने वाले आहार का ध्यान रखे | इसके लिए फ़ूड चार्ट बनाना जरुरी है | 
२) आटा और चने का सेवन अधिक मात्रा में करें | चाय, काफी, पनीर व दही का इस्तेमाल करते समय दूध में मलाई ज्यादा ना 
    हो |
३) शारीर में  मोटापे का इलाज भी स्वयं काम करने कि कोशिश करे |
४) व्यायाम बहुत जरुरी है | २ से ३ किलोमीटर रोज़ चले तो और अच्छा होगा | 


दीपक 

Monday 20 September 2010

हेल्थ टिप्स

पहचाने सेल्युलईट :- साधारण सा पिंच टेस्ट आपको यह जानने में मदद कर सकता है कि आपको सेल्युलईट की समस्या है कि नहीं | इसके लिए हाथ के बीच कि अंगुली से पेट और कमर या जहाँ भी फैटी लगे, उस त्वचा को दबाएँ और यदि उस जगह पर गड्ढानुमा जगह बन जाये तो समझे कि आपको सेल्युलईट की समस्या है | इसे समझाना कठिन नहीं |

कैसे करे बचाव :- वैसे तो शरीर में बढ़ते फैट या कोलेस्ट्रोल से निजाद पाने के लिए बाज़ार में कई सुविधा उपलब्ध हैं | महिलाएं डाइटिंग से लेकर एक्सरसाइज़ भी करती है, लेकिन सेल्युलईट आम फैट नहीं है | शेपअप आयुर्वेदिक उपचार, एंटी फैट से स्लिम हो सकते हैं | 

तो सेल्युलईट से बचे और स्वस्थ रहे....................................................................


दीपक

Saturday 18 September 2010

घरेलु टिप्स

डोसा :- पहला डोसा या चीला अक्सर तवे पर चिपक जाता है, इस परेशानी से बचने के लिए तवा गर्म होने पर इस पर नमक मिलाकर पानी के छीटे मारे फिर डोसा बनाएं डोसा चिपकेगा नहीं |

चक्केदार दही :- चक्केदार दही बनाने के लिए बर्तन के अन्दर फिटकरी लगायें और दही जमाएं या मिटटी के बर्तन का उपयोग करें | 

दीपक

Friday 17 September 2010

घरेलु टिप्स

खस्ता आलू पापड़- आलू के पापड़ बनाने हो तो आलू उन्बलते समय उसमे एक चुटकी खाने का सोडा दल दे, पापड़ खस्ता 
बनेगा |

लाजदार पापड़ - काम चिकने वाले पापड़ टालने के किये पापड़ दो दोस्नी तरफ घे या तेल लगा कर भुने | पापड़ टेल हुए जैसे भी काम लगेंगे और केलोरी भी काम होगी |


दीपक 

Thursday 16 September 2010

घरेलु टिप्स

गैस बर्नर सफाई - गैस बर्नर के छेद यदि बंद हो गए हो तो बर्नर को रात भर खाने का सोडा मिले पानी में डालकर रखे और सुबह पोछकर   साफ करें | सभी बंद छेद कुल जायेंगे |  

आचार  कि सुरक्षा - आचार रखने से पहले मर्तबान में हिंग का पावडर अच्छी तरह से लगायें और आचार भरकर बंद कर दें | आचार ख़राब नहीं होगा | 


to be continued......................................................


दीपक 

Wednesday 15 September 2010

घरेलु टिप्स

लहसुन अनावरण :- लहसुन जल्दी और आसानी से छिलने के लिए लहसुन के दाने थोड़ी देर के लिए गर्म पानी में भिगों दे और नेपकिन से रगड़ें |

साबूत नारियल गिरी :- नारियल सफाई से तोड़ने के लिए नारियल को रात भर गर्म पानी में डालकर रखें | सुबह ज़मीन पर मार कर तोड़े, नारियल का खोल आसानी से निकल जायेगा और गिरी साबुत निकल आयेगी |

to be continued............................................


दीपक 

Sunday 12 September 2010

घरेलु टिप्स

दही ऐसे जमाएं-  यदि आपके पास दही ज़माने का साधन नहीं है तो दूध में संगमरमर का पत्थर डाल कर रख दें, दही जम 
जायेगा |
कुरकुरे बिस्किट- यदि बरसात में बिस्किट सिल गए है तो तो उन्हें एक दिन के लिए फ्रीज़ में रख देने से बिस्किट दुबारा कुरकुरे हो जायेंगे |

to be continued.........................................


दीपक 

Saturday 11 September 2010

Health Tips

काया बनाये आकर्षक-
स्लिम, ट्रिम रहेना कोई फ़स्तिओन नहीं, बल्कि स्वयं को स्वस्थ व फिट रखना है | थोड़े से प्रयास से अपनी काया को चचरी व आकर्षक बनाया जा सकता है अपनी जिवान्स्याली में कुछ बदलाव लाये | व्यस्त जिंदगी और फास्ट फ़ूड के कलते करीब २५ % युवा पीडी बढ़ाते फट से परेशां है |

कैसे रहे स्वस्थ ?
सेब, गाजर, चेसे, लहसून, बेगेर फेटा दही, सकरकंद, अंकुरित गेहू, हरी सब्जिय और दूद से बने पदार्थो का सेवन करने से हमेशा स्वस्थ रहा जा सकता है |

to be continued.............................................

दीपक 

गणेश चतुर्थी पर विशेष





कथा- 
एक बार महादेवजी पार्वती सहित नर्मदा के तट पर गए। वहाँ एक सुंदर स्थान पर पार्वती जी ने महादेवजी के साथ चौपड़खेलने की इच्छा व्यक्त की। तब शिवजी ने कहा- हमारी हार-जीत का साक्षी कौन होगा? पार्वती ने तत्काल वहाँ की घास के तिनके बटोरकर एक पुतला बनाया और उसमें प्राण-प्रतिष्ठा करके उससे कहा- बेटा! हम चौपड़ खेलना चाहते हैं, किन्तु यहाँ हार-जीत का साक्षी कोई नहीं है। अतः खेल के अन्त में तुम हमारी हार-जीत के साक्षी होकर बताना कि हममें से कौन जीता, कौन हारा?
खेल आरंभ हुआ। दैवयोग से तीनों बार पार्वती जी ही जीतीं। जब अंत में बालक से हार-जीत का निर्णय कराया गया तो उसने महादेवजी को विजयी बताया। परिणामतः पार्वती जी ने क्रुद्ध होकर उसे एक पाँव से लंगड़ा होने और वहाँ के कीचड़ में पड़ा रहकर दुःख भोगने का शाप दे दिया।
बालक ने विनम्रतापूर्वक कहा- माँ! मुझसे अज्ञानवश ऐसा हो गया है। मैंने किसी कुटिलता या द्वेष के कारण ऐसा नहीं किया। मुझे क्षमा करें तथा शाप से मुक्ति का उपाय बताएँ। तब ममतारूपी माँ को उस पर दया आ गई और वे बोलीं- यहाँ नाग-कन्याएँ गणेश-पूजन करने आएँगी। उनके उपदेश से तुम गणेश व्रत करके मुझे प्राप्त करोगे। इतना कहकर वे कैलाश पर्वत चली गईं।
एक वर्ष बाद वहाँ श्रावण में नाग-कन्याएँ गणेश पूजन के लिए आईं। नाग-कन्याओं ने गणेश व्रत करके उस बालक को भी व्रत की विधि बताई। तत्पश्चात बालक ने 12 दिन तक श्रीगणेशजी का व्रत किया। तब गणेशजी ने उसे दर्शन देकर कहा- मैं तुम्हारे व्रत से प्रसन्न हूँ। मनोवांछित वर माँगो। बालक बोला- भगवन! मेरे पाँव में इतनी शक्ति दे दो कि मैं कैलाश पर्वत पर अपने माता-पिता के पास पहुँच सकूं और वे मुझ पर प्रसन्न हो जाएँ।
गणेशजी 'तथास्तु' कहकर अंतर्धान हो गए। बालक भगवान शिव के चरणों में पहुँच गया। शिवजी ने उससे वहाँ तक पहुँचने के साधन के बारे में पूछा।
तब बालक ने सारी कथा शिवजी को सुना दी। उधर उसी दिन से अप्रसन्न होकर पार्वती शिवजी से भी विमुख हो गई थीं। तदुपरांत भगवान शंकर ने भी बालक की तरह २१ दिन पर्यन्त श्रीगणेश का व्रत किया, जिसके प्रभाव से पार्वती के मन में स्वयं महादेवजी से मिलने की इच्छा जाग्रत हुई।
वे शीघ्र ही कैलाश पर्वत पर आ पहुँची। वहाँ पहुँचकर पार्वतीजी ने शिवजी से पूछा- भगवन! आपने ऐसा कौन-सा उपाय किया जिसके फलस्वरूप मैं आपके पास भागी-भागी आ गई हूँ। शिवजी ने 'गणेश व्रत' का इतिहास उनसे कह दिया।
तब पार्वतीजी ने अपने पुत्र कार्तिकेय से मिलने की इच्छा से 21 दिन पर्यन्त 21-21 की संख्या में दूर्वा, पुष्प तथा लड्डुओं से गणेशजी का पूजन किया। 21वें दिन कार्तिकेय स्वयं ही पार्वतीजी से आ मिले। उन्होंने भी माँ के मुख से इस व्रत का माहात्म्य सुनकर व्रत किया।
कार्तिकेय ने यही व्रत विश्वामित्रजी को बताया। विश्वामित्रजी ने व्रत करके गणेशजी से जन्म से मुक्त होकर 'ब्रह्म-ऋषि' होने का वर माँगा। गणेशजी ने उनकी मनोकामना पूर्ण की। ऐसे हैं श्री गणेशजी, जो सबकी कामनाएँ पूर्ण करते हैं।

गणेश चतुर्थी कि शुभकामनाएं

दीपक


Friday 10 September 2010

अजब गजब

हवा भरकर पूलेगा टेंट- 


चाइना में इस समय एक टेंट बनाया जा रहा है | रोचक जानकारी ये है कि ये टेंट inflatable है, जिसमे air conditioner भी होंगे | जानने वाली ये बात है कि inflatable का अर्थ है टेंट में हवा भरकर इसे बनाया गया है, जिसमे इलेक्ट्रोनिक सिस्टम होंगे | यह टेंट एक्सपो & कार्निवाल के लिए इस्तमाल किया जायेगा | इसे किसी अमेरिकन कंपनी के आर्डर पर बनाया जा रहा है | टेंट कि लम्बाई 46 मीटर और चौड़ाई ४२ मीटर है और १३ मीटर ऊँचा है.......................................   




दीपक

Thursday 9 September 2010

कुछ घरेलु टिप्स

१) घी बनाने का बेहतर तरीका- घर में माखन से घी बनाते समय काफी सारी गैस खर्च होती है | गैस बचाने के लिए पहले माखन पिघला लें और पानी में मिला दें उसके बाद बर्तन को फ्रिज में रख दें अगले दिन घी पानी कि सतह में तैरने लगेगा |
२) सुस्वादु दही - यदि दही खट्टा हो गया हो तो उसमे तीन गुना पानी मिलकर ३- ४ घंटे के लिए रख दें फिर उसके ऊपर से पानी निथार दे बचा हुआ दही खट्टा नहीं रहेगा |

to be continued..............................................


दीपक

Wednesday 8 September 2010

Health Tips

Osteoporosis 
A condition in which the amount of bone mass decreases to the point where the bones are fragile and easily fractured, affecting twice as many women as men. Women are particularly risk from the osteoporosis as they have a lower density of bone, because of smaller body size than men. The risk increases those who have a premature menopause, early hysterectomy, previous anorexia nervosa etc. Also women who smoke or drink excessively are at the greater risk. Weight-bearing exercise , a diet rich in calcium, Vitamin D and other minerals, and not smoking can help to prevent bone loss. Hormone replacement therapy is the most effective preventive treatment but is not suitable for all women. Physiotherapy and acupunture can help to relieve pain. Osteoporosis can be detected by doing bone density test.



DEEPAK 

Tuesday 7 September 2010

एक शोध






लंदन। जीवन के शुरूआती चरण में अच्छी नींद का संबंध सीधे तौर पर आनेवाले वक्त के मोटापे से है। एक शोध से यह बात सामने आई है कि बचपन में अच्छी नींद लेनेवाले बच्चे बड़े होकर मोटापे से दूर रहते हैं।

समाचारपत्र ‘डेली मेल’ के मुताबिक नवजात और नर्सरी में पढ़नेवाले बच्चे अगर हर रोज 10 घंटे तक सोते हैं तो उम्र बढ़ने के साथ उनके मोटा होने का खतरा नहीं रहता है।
विशेषज्ञ मानते हैं कि नींद की कमी के कारण इंसान भूखा महसूस करता है। उस वक्त उसे प्रचुर मात्रा में कैलोरी की जरूरत होती है। ऐसी स्थिति में दिन में इसकी भरपाई तली-भुनी चीजों से की जाती है, जो मोटापा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

इससे पहले किए गए शोध में यह बात सामने आई है कि अच्छी नींद नहीं लेने से वयस्क और किशोर भी मोटापे का शिकार हो सकते हैं, लेकिन मोटापे और नवजातों की नींद को लेकर पहली बार कोई शोध किया गया है।
नवजात बच्चे सोते समय भी सीखते हैं 

शोध में पता चला है कि जो बच्चे 10 घंटे से कम नींद लेते हैं, उनके पांच वर्ष का होने तक मोटा होने या फिर उससे अधिक उम्र में गंभीर स्तर तक मोटा होने का खतरा रहता है।


इसलिए अपने बच्चे को खूब सुलाएं......................................................ठीक है.............................




दीपक 

Sunday 5 September 2010

अजीब खबरें

लन्दन- इनलैंड की peddy ७६ साल कि उम्र में सालसा डांस करने वाले सबसे बुजुर्ग महिला है | बचपन से ही सालसा के प्रति रूचि रखने वाली peddy को इस उम्र में सालसा डांस में अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका reality show "britains got talent" के दौरान मिला | इस शो के दौरान स्पेन के सालसा डांस कर ये उपाधि हासिल कि है | सात बच्चो कि दादी इंलैंड में रहती है | उनका कारनामा गिनिश बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हो चुका है | वे इस उम्र के लोगो के लिए मिसाल पेश करना चाहती थी |

है ना गजब.........................


दीपक

Teacher's Day Article

A day that is dedicated to the hard work that is input by the teacher all year long, a day that is a complete tribute to the teachers all around India. In India teacher day is celebrated on 5th of September. Teachers Day is a dedication to Dr. Sarvepalli Radhakrishnan, who was a staunch believer of education and was one of the most well known diplomat, scholar, president of India and above all a teacher. As a tribute to this great teacher, his birthday has been observed as teachers' day and this led to its origin. This day is just a mere reflection of Dr. Sarvepalli Radhakrishnan's love for and attachment to the teaching profession. As a matter of fact Dr. Radhakrishnan himself asked his admirers to celebrate his birthday not as his birthday but as the teacher's day. One of the most celebrated writers in the modern India today his work varies on philosophical, theological, ethical, educational, social and cultural subjects. He contributed numerous articles to different well-known journals, which, are of immense value and seems to surprise various readers because of the depth in the meaning of the articles.

Teacher's day is now one of the occasion that is looked forward by the teachers and students alike as on this occasion its not only when teachers are praised but also around various schools students dress up as a representation of their teachers and take various lectures that are assigned to the teachers they represent. As the day passes the students perform the regular activities that are performed by the teacher's. On this day students realize what it means to be a teacher and what it means to control the future of several students in their classes and also teachers are reminded what it felt like when they were the students.

Apart from the fun aspect everybody should pay their respects to the great Dr. Radhakrishnan. Since that day this event have become a regular event. Apart from the fun aspect of the day it is also a day when one can look back and admire and get inspired by Dr. Radhakrishnan, a small town cunning boy, who grew up to become one of the most respected politicians in the history of democracy of India.






सभी जनों को शिक्षक दिवस कि बधाई








दीपक  

Saturday 4 September 2010

घरेलु Tips

१)  जायकेदार चाय- चाय बनाने के बाद निम्बू या संतेरे के छिलके डालकर बर्तन को कुछ दे ढककर रखे, चाय का स्वाद बहुत ही
     जाएकेदार हो जायेगा |
२) दूध कि सुरक्षा - यदि आपको लगता है कि दूध बासी हो गया है और उबलने पर फट जायेगा तो आप दूध में एक चमच मक्की  
    का आटा पानी में घोल कर मिलाईये, दूध फटने से बच जायेगा |
३) मक्खन से घी- मक्खन से घी बनाते समय एक चुटकी नमक और चीनी मिला दे इससे घी बर्तन में नहीं चिपकेगा |
४) धवल चावल- चावल धोकर नमक के पानी में भिगोने से ज्यादा सफेद बनेगा |

to be continued....................................................

दीपक

Friday 3 September 2010

अजब गजब

टोक्यो | जापान के शोधकर्ताओं ने दुनिया की पहली ऐसी 3डी तकनीक विकसित कर ली है जिसके तहत तस्वीरों को छूकर भी महसूस किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने बताया कि नई तकनीक के जरिए उपभोक्ता उनके सामने तैर रहीं तस्वीरों को छू सकते हैं, यहां तक की दबा कर भी देख सकते हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस इंडस्टि्रयल साइंस एंड टेक्नोलॉजी के वरिष्ठ शोधकर्ता नोरियो नाकामूरा ने बताया, ऐसा पहली बार हो रहा है जब आप हवा में मौजूद तस्वीरों को महसूस कर सकते हैं। उन्होंने कहा, आपको तस्वीर को छूने का बिल्कुल वैसे ही अहसास होगा जैसे आप किसी रबड़ की गेंद को दबा रहे हों। उन्होंने जोड़ा कि नई तकनीक त्रिआयामी तस्वीरों के आकार को स्पर्श की प्रतिक्रिया में बदल देती है। यह टीवी में लगे कैमरों की मदद से होता है जो उंगलियों के घुमाव पर नजर रखते हैं। अभी तक हालांकि यह नहीं बताया गया है कि यह तकनीक सामान्य इस्तेमाल में कब तक आएगी। 




दीपक 

Thursday 2 September 2010

अजब गजब

लंदन। ब्रिटेन में दो बहनों ने एक ही दिन, एक ही अस्पताल में अपने बेटों को जन्म दिया। इस अस्पताल में होने वाले 125,000 प्रसवों में से अब तक उन्हीं के मामले में ऎसा हुआ है।
नॉर्थ स्टैफोर्डशिर के विश्वविद्यालय अस्पताल की दाइयां उस समय चकित रह गईं जब दोनों बहनों कैथरीन मॉरिस और डान पॉट्स ने एक-दूसरे से सात घंटे के अंतराल पर अपने बेटों को जन्म दिया। मॉरिस को प्रसव कक्ष में पहले ले जाया गया था लेकिन उन्होंने बाद में जन्म दिया। उन्हें उनकी बहन के सीजेरियन ऑपरेशन के लिए आरक्षित कक्ष में ले जाया गया।
दोनों बहनों के सितम्बर की शुरूआत में एक-दूसरे से चार दिन के अंतर पर बच्चों को जन्म देने की संभावना थी। इकतीस वर्षीय पॉट्स ने पिछले बुधवार को 3.49 किलोग्राम वजन के अपने बेटे को जन्म दिया। चौंतीस वर्षीय मॉरिस का प्रसव नौ सितंबर को होना था लेकिन उन्होंने ने भी इसी दिन 3.83 किलोग्राम वजन के बेटे को जन्म दिया।


गजब.......................................




दीपक 





Wednesday 1 September 2010

जन्माष्टमी विशेष

श्री कृष्णजन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण का जनमोत्स्व है। योगेश्वर कृष्ण के भगवद गीता के उपदेश अनादि काल से जनमानस के लिए जीवन दर्शन प्रस्तुत करते रहे हैं। जन्माष्टमी भारत में हीं नहीं बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी इसे पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं। श्रीकृष्ण ने अपना अवतार भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को अत्याचारी कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में लिया। चूंकि भगवान स्वयं इस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे अत: इस दिन को कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं। इसीलिए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मथुरा नगरी भक्ति के रंगों से सराबोर हो उठती है।
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन मौके पर भगवान कान्हा की मोहक छवि देखने के लिए दूर दूर से श्रद्धालु आज के दिन मथुरापहुंचते हैं। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर मथुरा कृष्णमय हो जाता है। मंदिरों को खास तौर पर सजाया जाता है। जन्माअष्टमी  में स्त्री-पुरुष बारह बजे तक व्रत रखते हैं। इस दिन मंदिरों में झांकियां सजाई जाती है और भगवान कृष्ण को झूला झुलाया जाता है। औररासलीला का आयोजन होता है।

आप सभी को जन्माअष्टमी की बधाई

दीपक